Travel

Discover Leh Ladakh: 15 Places to Visit in Leh Ladakh

Last Updated on 6 November 2023 by Kashif Rahman

दोस्तों घूमना फिरना किसे पसंद नहीं होता है। हम सब की ख्वाहिश होती है की हम अपनी फैमिली और फ्रेंड के साथ देश विदेश घूमें। ऐसे में हमारे अपने देश में भी बहुत सारे पर्यटन स्थल है। आज के इस आर्टिकल में हम 15 Places to Visit in Leh Ladakh की विस्तार से चर्चा करेंगे।

लद्दाख एक केंद्र शासित प्रदेश है जिसकी राजधानी व प्रमुख नगर लेह है। लेह लद्दाख भारत में एक बहुत ही खूबसूरत जगह है। यह पहले जम्मू-कश्मीर राज्य का हिस्सा हुआ करता था।लेकिन अब यह एक अलग केंद्र शासित प्रदेश है। लद्दाख को लेह और कारगिल नामक दो छोटे भागों में विभाजित किया गया है। यह अपने खूबसूरत पहाड़ों और ग्लेशियरों के लिए जाना जाता है।

लेह शहर वास्तव में एक बहुत ही खूबसूरत जगह है जहां बहुत से लोग जाना पसंद करते हैं क्योंकि इसमें अद्भुत मठ, देखने के लिए सुंदर जगहें और वास्तव में अच्छे बाजार हैं। लेह लद्दाख भारत में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है क्योंकि इसकी ज़मीन पठारीय है, यहाँ पर बर्फ गिरती है और अद्भुत दिखती है, और करने के लिए बहुत सारी मज़ेदार चीज़ें हैं। अगर आप लेह लद्दाख जाना चाहते हैं तो आपको यह लेख पढ़ना चाहिए क्योंकि हम आपको वहां देखने लायक 15 बेहद खास जगहों के बारे में बताएंगे।

1. Pangong Lake

pangong

ब्लू पैंगोंग झील हिमालय में लेह-लद्दाख के पास एक बहुत प्रसिद्ध झील है। यह 12 किलोमीटर लंबा है और भारत से तिब्बत तक फैला हुआ है। झील पहाड़ों में बहुत ऊंचाई पर है, लगभग 43,000 मीटर, इसलिए वहां बहुत ठंड होती है। तापमान -5 डिग्री सेल्सियस से 10 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। झील नमकीन होने के बावजूद सर्दियों में पूरी तरह जम जाती है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस झील को लोग पैंगोंग त्सो भी कहते हैं। यह लंबे समय से पर्यटकों के घूमने के लिए एक लोकप्रिय स्थान रहा है। वहां कई फिल्मों की शूटिंग हुई हैं, जिससे यह और भी प्रसिद्ध हो गया है। लोग पैंगोंग झील जाना पसंद करते हैं क्योंकि यह बहुत सुंदर है, इसके चारों ओर साफ पानी और सुंदर पहाड़ियाँ हैं।

2. Magnetic Hill

लद्दाख में मैग्नेटिक हिल एक प्रसिद्ध जगह है जहां कारें और अन्य वाहन अपने आप ऊपर की ओर बढ़ते प्रतीत होते हैं। यह गुरुत्वाकर्षण के कारण होने वाली एक जादुई चाल की तरह है। यह पहाड़ी पहाड़ों में बहुत ऊंची है और लेह नामक शहर से लगभग 30 किलोमीटर दूर है। पास में ही सिंधु नदी नामक एक नदी है, जो तिब्बत से शुरू होती है। इस पहाड़ी पर बहुत से लोग आते हैं क्योंकि ऐसा लगता है कि वहां कुछ अजीब हो रहा है। यह एक बड़े रहस्य की तरह है जिसे देखने के लिए दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से लोग खींचे चले आते हैं।

3. Leh Palace

places to visit in leh ladakh

लेह पैलेस, जिसके अलावा इसे ‘लाचेन पालखार’ के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है और यह देश की महत्वपूर्ण ऐतिहासिक सम्पदाओं में से एक है। सन् 1600 में राजा सेंगगे नामग्याल ने इस भव्य और आकर्षक संरचना को एक शाही महल के रूप में बनवाया था, जिसमें राजा और उनका पूरा राजसी परिवार निवास करता था। लेह पैलेस उन समय की सबसे ऊँची इमारतों में से एक है, जिसमें नौ मंजिलें हैं। यह महल लेह का सुंदर नजारा प्रदर्शित करता है।

4. Phugtal Monastery

monastery 1

फुक्तल या फुगताल मठ लद्दाख के सुदूर क्षेत्र में एक विशेष मठ है। यह एक बहुत पुराना मठ है जहां बहुत समय पहले लोग रहा करते थे। वे वहां सीखने, सिखाने और शांति पाने के लिए आते थे। स्थानीय भाषा में, फुग्तल का अर्थ है “गुफा विश्राम।” यह एकमात्र मठ है जहां आप पैदल चलकर पहुंच सकते हैं। कई पर्यटक इस जगह की यात्रा करना और रोमांचक ट्रेक पर जाना पसंद करते हैं। अगर आप कभी लेह लद्दाख जाएं तो इस खास मठ के दर्शन जरूर करें।

लोग वहां अच्छे जीवन की प्रार्थना करने और अच्छे काम करने जाते हैं। वे ढेर सारे संगीत और नृत्य के साथ मनोरंजक उत्सव भी आयोजित करते हैं।

5. Chadar Trek

लेह लद्दाख में स्तिथ चादर ट्रेक वास्तव में एक शीतकालीन ट्रेक है। जो कि कठिन और रोमांच से भरी है। इसे चादर ट्रेक इसलिए कहा जाता है क्योंकि जांस्कर नदी सर्दियों में जम जाती है और बर्फ की एक बड़ी चादर की तरह दिखती है। पर्वतारोहण के लिए अन्य स्थानों की तुलना में यह एक अनोखा और विशेष ट्रेक है।

6. Gurudwara Pathar Sahib

गुरुद्वारा पत्थर साहिब लेह में एक विशेष स्थान है जो लगभग 20 किलोमीटर दूर है। इसे 1517 में गुरु नानक की याद में बनाया गया था। इसे गुरुद्वारा कहा जाता है क्योंकि यह सिखों के लिए एक पवित्र स्थान है। यह अन्य इमारतों से अलग है क्योंकि यह एक बड़ी चट्टान पर बनी है जिसे हिलाया नहीं जा सकता।

लोगों का मानना ​​है कि यह चट्टान गुरु नानक जैसी दिखती है। कई ट्रक ड्राइवर और सैनिक अपनी यात्रा शुरू करने से पहले वहां जाना पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यह सौभाग्य लाता है।

7. Shanti Stupa

शांति स्तूप लेह लद्दाख में एक खास जगह है जहां लोग प्रार्थना करने जाते हैं। यह एक बड़ा सफेद गुंबद है जिसे जापान के एक बौद्ध भिक्षु ने बनवाया था। 14वें दलाई लामा, जो एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक नेता हैं, ने इसे और भी खास बना दिया। गुंबद के अंदर बुद्ध की विशेष चीजें हैं। गुंबद के ऊपर से आप इसके चारों ओर की सारी खूबसूरत ज़मीन देख सकते हैं।

शांति स्तूप लेह में पर्यटकों के घूमने के लिए बहुत लोकप्रिय जगह है। यह बहुत ऊंचाई पर है, समुद्र से 4,000 मीटर से अधिक की ऊंचाई पर, और आप या तो वहां गाड़ी चला सकते हैं या सीढ़ियाँ चढ़ सकते हैं।

8. Khardung La Pass

khardungla

खारदुंग ला दर्रा एक दरवाजे की तरह है जो लद्दाख की खूबसूरत घाटियों की ओर जाता है। यह एक बहुत ही खास दर्रा है क्योंकि यह सियाचिन ग्लेशियर नामक बहुत ऊंचे स्थान पर है और कहा जाता है कि यह दुनिया का सबसे ऊंचा दर्रा है जिस पर आप गाड़ी चला सकते हैं। यह वास्तव में वहां बहुत सुंदर है और हवा आपको ऐसा महसूस कराती है जैसे आप हर चीज में शीर्ष पर हैं। बहुत से लोग खारदुंग ला दर्रा जाना पसंद करते हैं क्योंकि यह पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय जगह है।

9. Hemis Monastery

इसे लद्दाख के सबसे बड़े बौद्धिक संस्थान के रूप में जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है की इसका अस्तित्व 11 वी सदी से पहले का है। यहाँ पर हर साल जून में हेमिस त्यौहार बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है। इस त्यौहार का हिस्सा बनने लोग दूर दूर खींचे चले आते है। यह लद्दाख के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है।

10. Leh Market

जब आप लेह-लद्दाख जाएंगे तो लेह मार्केट पहली जगह है जिसे आप देखेंगे। यह शहर के बीच में है और हमारा मानना ​​है कि अगर आप लेह लद्दाख जाएं तो आपको वहां जरूर जाना चाहिए। लेह मार्केट में आप बहुत सारी चीजें खरीद सकते हैं।

कई छोटे तिब्बती बाज़ार और स्मारिका दुकानें हैं जहाँ आप कढ़ाई वाले पैच, पश्मीना शॉल, प्रार्थना पहिये और चांदी के शिल्प जैसी विशेष वस्तुएँ पा सकते हैं। खरीदारी के अलावा, आप लेह बाजार में स्वादिष्ट स्थानीय भोजन का भी स्वाद ले सकते हैं।

11. Kargil

कारगिल एक ऐसी जगह है जो नियंत्रण रेखा सीमा के करीब है। इसका मुख कश्मीर घाटी नामक घाटी के सामने है और यह पाकिस्तान में बाल्टिस्तान नामक स्थान के पश्चिम और दक्षिण में स्थित है। सुरू कारगिल का एक हिस्सा है और इसमें वाखा और द्रास नामक घाटियाँ शामिल हैं। साल 1999 में भारत और पाकिस्तान के बीच बड़ी लड़ाई हुई थी और उस लड़ाई में कारगिल ने अहम भूमिका निभाई थी.

12. Stok Palace

जब आप लेह-लद्दाख जाएँ तो स्टोक पैलेस वास्तव में एक अच्छी जगह है। यह सिंधु नदी के पास है और इसे बहुत समय पहले त्सेपाल टोंडुप नामग्याल नाम के राजा ने बनवाया था। महल वास्तव में सुंदर दिखता है और इसमें अच्छे बगीचे हैं। यह इसलिए भी खास जगह है क्योंकि इसमें शाही परिवार के पुराने कपड़े, मुकुट और अन्य चीजें हैं। आप जीप में सवार होकर या अन्य लोगों के साथ टैक्सी साझा करके स्टोक पैलेस पहुँच सकते हैं।

13. Tso Kar Jheel

tso

त्सो कार लद्दाख में एक सुंदर झील है जिसे व्हाइट लेक भी कहा जाता है। यह पास की दो अन्य झीलों की तुलना में छोटी और शांत है। जो लोग पक्षियों से प्यार करते हैं उन्हें त्सो कार बहुत पसंद आती है क्योंकि उन्हें वहां कई तरह के अच्छे पक्षी देखने को मिलते हैं।

14. River Rafting In Ladakh

यदि आप लेह लद्दाख की यात्रा पर जा रहे हैं, तो आपको ज़ांस्कर नदी पर रिवर राफ्टिंग का आनंद ज़रूर लेना चाहिए । यह एक विशेष साहसिक कार्य पर जाने जैसा है। ज़ांस्कर नदी को भारत के ग्रांड कैन्यन के रूप में जाना जाता है और यह राफ्टिंग के लिए दुनिया की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। लेकिन अपने साथ पीने के लिए पर्याप्त पानी लाना याद रखें। जब आप राफ्टिंग करने जाएं, तो गाइड कोज़रूर सुने और उनके निर्देशों का पालन ज़रूर करें। राफ्टिंग के लिए सबसे अच्छा समय जून से सितंबर तक है।

15. Mountain Biking In Ladakh

पहाड़ों में बाइक चलाना पसंद करने वाले लोगों के लिए लेह-लद्दाख एक सपनों की जगह जैसा है। वास्तव में खड़ी पहाड़ियों और रोमांचक रास्तों पर बाइक चलाने का आनंद लेने के लिए हर साल बहुत सारे पर्यटक यहां आते हैं। लेह-मनाली राजमार्ग साहसी बाइकर्स के लिए सुंदर दृश्य देखने के लिए वास्तव में एक अच्छी सड़क है। लद्दाख में बाइकिंग करने का सबसे अच्छा समय मई से सितंबर तक है क्योंकि यह वह समय है जब यह बाइकिंग के लिए खुला होता है।

Best time to visit leh ladakh

वसंत और प्रारंभिक ग्रीष्म ऋतु (अप्रैल से जून)

अप्रैल से जून के महीने लेह लद्दाख में पर्यटन सीजन की शुरुआत माना जाता है। इस दौरान मौसम सुहावना होता है, तापमान 15°C से 25°C के बीच रहता है। पिघलती बर्फ एक सुरम्य परिदृश्य बनाती है, जिससे यह प्रकृति प्रेमियों और ट्रेकर्स के लिए इस क्षेत्र को घूमने का सही समय बनाता है।

मानसून का मौसम (जुलाई से सितंबर)

जबकि लेह लद्दाख में न्यूनतम वर्षा होती है, मानसून का मौसम अप्रत्याशित हो सकता है। यात्रा के लिए सड़कें फिसलन भरी और चुनौतीपूर्ण हो सकती हैं। हालाँकि, हरे-भरे हरियाली के साथ परिदृश्य बदल जाता है, जिससे यह फोटोग्राफरों और एक अनोखे अनुभव की तलाश करने वालों के लिए एक अच्छा समय बन जाता है।

शरद ऋतु (अक्टूबर से नवंबर)

मानसून के बाद की अवधि, अक्टूबर से नवंबर तक, लेह लद्दाख की यात्रा के लिए एक और उत्कृष्ट समय है। मौसम सुहावना रहता है और परिदृश्य मनमोहक होते हैं। यह साहसिक चाहने वालों और सांस्कृतिक खोजकर्ताओं के लिए एक आदर्श समय है, इस अवधि के दौरान कई स्थानीय त्यौहार होते हैं।

Leh ladakh weather

लेह लद्दाख की जलवायु ठंडी और शुष्क है। यहाँ ठंडी के मौसम में काफी बर्फ़बारी होती है।

  1. वर्षा के मौसम (जुलाई से सितंबर): लेह लद्दाख का मौसम वर्षा के मौसम काल में बहुत ताजगी और सुहावना होता है। इस समय यहाँ पर मिलती है बारिश, जिससे यहाँ की प्राकृतिक सौंदर्य बढ़ जाती है। आपको बारिश के साथ ठंडी भी मिलेगी, जिससे मौसम आपके लिए सुहावना बन सकता है।
  2. गर्मियों के मौसम (अप्रैल से जून): यह लेह लद्दाख के पर्यटक सीजन की शुरुआत होती है। इस समय का मौसम सुहावना होता है और तापमान 15°C से 25°C के बीच होता है। बर्फ का पिघलना एक खूबसूरत परिदृश्य बनाता है, जिससे प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद लेने वालों और ट्रेकर्स के लिए यह समय बेहद उपयुक्त होता है।
  3. ठंडी (अक्टूबर से नवंबर): बारिश के समय के बाद, अक्टूबर से नवंबर तक यहाँ का मौसम फिर से सुहावना होता है। यह समय उन लोगों के लिए अद्वितीय होता है जो साहसी हैं और स्थानीय त्योहारों का आनंद लेना चाहते हैं।

लेह लद्दाख के मौसम को देखकर, आप अपने यात्रा की योजना बना सकते हैं और सही समय पर वहाँ जा सकते हैं।

Delhi to leh ladakh distance

दिल्ली से लदाख की दूरी लगभग 927 KM है।दिल्ली से लद्दाख आप 20 hr 46 min में via NH 3 पहुंच सकते है।

Conclusion

लेह लद्दाख भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। हर साल लगभग लाखों की संख्या में लोग भारत और दुसरे देशों से यहाँ घूमने के लिए आते है। अप्रैल से जून का मौसम काफी सुहावना होता है। सबसे ज़्यादा पर्यटक इसी मौसम में यहाँ आते हैं। यहांपर घूमने के लिए ढेर सारे पर्यटन स्थल है। साथ ही साथ रिवर राफ्टिंग और बाइक राइडिंग का भी आनंद लिया जा सकता है।

देश विदेश के और भी पर्यटन स्थल घूमने के लिए हमारे साथ बने रहे। धन्यवाद।

Kashif Rahman

मेरा नाम काशिफ रहमान है। ब्लॉगिंग, डिजिटल मार्केटिंग ,वर्डप्रेस एसईओ, टेक्नोलॉजी, इंटरनेट और कंप्यूटर ,ट्रैवेल व फुड्स से जुड़े विषयों में मेरी दिलचस्पी है।अंग्रेजी भाषा में तो कई अच्छे अच्छे ब्लॉग लिखे गए है,किन्तु हिंदी में क्वालिटी कंटेंट की भारी कमी है । इसी बात को ध्यान में रख कर मैंने January 2023 में इस ब्लॉग की शरुआत की है।ज़्यादा जानकारी के लिए अबाउट मी पेज देखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *